fbpx

ओब्सट्रेशियन एंड गायनाकोलोजिस्ट MD DNB MRCOG CIMP FICOG

एशियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, फरीदाबाद, हरियाणा में सीनियर कन्सल्टेंट 

गर्भनिरोधक गर्भधारण से बचने या उसे स्थगित करने की एक विधि  या तरीका है. गर्भनिरोधक का उपयोग करने वालों के लिए बाज़ार में विभिन्न शार्ट टर्म गर्भनिरोधक विकल्प बैरियर गर्भनिरोधक के रूप में उपलब्ध हैं जैसे (कंडोम), ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव  पिल्स और एमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव  पिल्स हैं.

मेरे अनुभव के अनुसार सात सामान्य कारण (जिनसे हम आसानी से निपट सकते हैं) जिनके कारण महिलाएं गर्भनिरोधक का उपयोग नहीं करती हैं.

1. गोलियां या पिल्स  – गोलियां या पिल्स के प्रयोग न करने के पीछे महिलाओं में सबसे आम डर भविष्य में गर्भधारण करने में असमर्थता होता है. समाज के शिक्षित वर्ग में भी एक आम मिथक यह है कि ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव के उपयोग से भविष्य में गर्भधारण की संभावना कम हो जाएगी. जबकि यह बिलकुल भी सही नहीं है. जैसे ही गोलियों का प्रयोग बंद कर दिया जाता है , प्रजनन क्षमता सामान्य हो जाती है.

2.वजन बढ़ने का डर– यह बहस का विषय है कि गर्भनिरोधक गोलियों से कुछ वजन बढ़ सकता है. लेकिन गर्भनिरोधक के उपयोग के कई लाभों के मुकाबले यह साइड इफेक्ट्स बहुत मामूली है . यदि आप का अपनी डाइट पर नियन्त्रण है और आप नियमित रूप से व्यायाम करते हैं तो आप वजन बढ़ने की समस्या से बच सकते हैं.

3. पीरियड्स के दौरान कम ब्लीडिंग – महिलायें अपने दोस्तों या रिश्तेदारों से सुनती हैं कि गोलियां लेने के बाद पीरियड्स असामान्य हो जाते हैं. यह संभव है कि लंबे समय तक गोलियों उपयोग से पीरियड्स में ब्लीडिंग कम हो जाती है . कॉन्ट्रासेप्टिव  पिल्स का उपयोग कभी-कभी हैवी और अनियमित पीरियड्स वाली महिलाओं में एक चिकित्सीय उपचार के विकल्प के रूप में किया जाता है.

4. मेरे पास आने वाले बहुत से लोग गर्भनिरोधक की लागत के बारे सोचकर इसके प्रयोग से झिझकते हैं . लेकिन अच्छी खबर यह है कि सरकारी परिवार नियोजन केंद्रों में कॉन्ट्रासेप्टिव  पिल्स और कंडोम मुफ्त उपलब्ध हैं. बाजार में भी एक महीने की  कॉन्ट्रासेप्टिव  पिल्स 150- 200 रुपये से उपलब्ध हैं. अनचाही प्रेगनेंसी होने की तुलना में यह लागत कम है .

5. भारत में अधिकांश महिलाएं गर्भनिरोधक के बारे में बात करने से झिझकती हैं. जो लोग रुचि रखते हैं , वे विभिन्न उपलब्ध विकल्पों के बारे में जानने के लिए www.hellojubi.in पर लॉग इन कर सकते हैं. महिलाओं के लिए अनचाहे गर्भ और उसके परिणामों से बचने के लिए गर्भ निरोधकों का ज्ञान होना ज़रूरी है. गर्भनिरोधक विकल्पों के बारे में सही जानकारी के लिए महिलाओं को क्वालिफाइड एक्सपर्ट्स से बात करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए.

6.सेक्सुअल प्लेज़र में कमी – कुछ महिलाओं और पुरुषों का यह भी मानना है कि कॉन्ट्रासेप्टिव  पिल्स के उपयोग से सेक्सुअल प्लेज़र कम हो जाता है. कुछ लोगों का यह भी मानना है कि कंडोम के इस्तेमाल से भी सेक्सुअल प्लेज़र कम हो जाता है. ऊपर दी गयी जानकारी के अनुसार आप समझ सकते हैं कि स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा उचित सलाह कई मिथकों को दूर कर सकता है.

7 .बहुत सारे कपल एमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव  पिल्स (ECPs) का इस्तेमाल गर्भनिरोधक के विकल्प के रूप करते हैं

ECPs नियमित गर्भनिरोधक नहीं हैं. वे कभी-कभी एमरजेंसी में उपयोग के लिए होती हैं जैसे कि 6 महीने में एक बार.  इसलिए, ECPs दैनिक या साप्ताहिक उपयोग के लिए नहीं हैं, इसीलिए इसका नाम एमरजेंसी पिल्स  है.

 ऊपर बताए गए कारण वे सामान्य कारण हैं जो ये बताते हैं कि महिलाएं गर्भनिरोधक का उपयोग क्यों नहीं करती हैं और इन कारणों का समाधान आसान है . एक खुली सोच , उचित शिक्षा, परिवार नियोजन क्लीनिक / वेब पोर्टल तक पहुंच, क्षेत्रीय भाषाओं में प्रिंट की गयी जानकारी ऐसे कुछ तरीके हैं जिनसे गर्भनिरोधक के उपयोग को बढ़ाने में मदद मिलेगी. यह महिलाओं को अनचाहे गर्भ  होने से से बचाएगा.

Write A Comment